दोस्तों आज हम जानेगे एशिया के सबसे बड़े जंगल के बारे में की वहां क्या क्या पाया जाता और कौन कौन से जानवर,पक्षीया और कीड़ेमकोड़े रहते है|


तो चलिए सुरु करते है:-

 

About Asia Biggest Forest – Saranda Forest

Asia Biggest Forest
 
एशिया का सबसे बड़ा और नामचीन जंगलसारंडा जंगलजो की झारखण्डके साथ साथ ओड़िशा के सीमा पे फैला हुवा| ये जंगल अपने आप में ही एक मिस्साल है क्यूंकि यहाँ अनेको प्रकार के जानवर, पक्षी, कीड़े मकोड़े और सरीसृप प्रजातियां हैं| सारंडा सब्द का अर्थ हाथियों से होता है इस जंगल में बड़े हाथियों के झुंड के कारन से इस जंगल का नामसारंडारखा गया है| और इस जंगल को हाथियों का घर भी कहा जाता है| यह जंगल लगभग 820 किलोमीटर वर्ग में फैला हुवा है| यह जंगलजमशेदपुरसे लगभग 160 kilometer दूर स्थित है| “थालकोबदजंगल के बीच में 550 मीटर (1,800 फीट) की ऊंचाई पर स्थित एक सुन्दर नज़ारे के साथ एक गांव है।
 

Saranda Forest Clearing For Mining

Saranda Forest Clearing For Mining
 
 यह जंगल अपने अपने नामचिन्ह के साथ साथ इसलिए भी प्रसिद्ध है क्यूंकि इस जंगल में बड़ी संख्या में जड़ीबूटी पाए जाते है| इस जंगल में झिकरा नाम का झरना स्स्थित है जिसकी वजह से पर्यटक और रोमाँचको के लिए एक भोत ही खूबसूरत जगह है| इस जंगल में भारी मात्रा में लोहा पाया जाता है जिसकी वजह से इस जंगल में  बड़ी बड़ी खदाने है ताकि वहां से लोहे को निकला जा सके और उपयोग के लायक लाया जा सके| स्टील अथॉरिटीऑफ इंडिया लिमिटेड का कहना है ये जंगल अपनी लौह अयस्क खदानों के लिए प्रसिद्ध हैं। लोहे को निकलने के लिए यहाँ रोज अनेको पेड़ो को कटा जाता है और जंगल को बर्बाद किया जाता है| साथ ही आस पास के जंगलो में रहने वालो लोगो को भी परेशान किया जाता है और उन्हें काम भी नहीं दिया जाता है| जिसकी वजह से वह के लोगो को काफी तकलीफो का सामना करना पड़ता है| और बताया जाता है की उन्हें बार बार एक जगह से दूसरे जगह पे भेजा जाता है और कहा जाता है ये जंगल तुम्हारा नहीं है ये सरकार की प्रॉपर्टी है आप यहाँ नहीं रह सकते है जाईये आपलोग यहाँ से जहा भी जाना है चले जाइये|
 
forest in jharkhand
 
इस जंगल  में लगभग 56 गांव है जिसमें 36,000 से भी जाएदा लोग रहते है| इसमें से अधिकतर लोग बीमार है क्यूंकिवहां पर चलने वाले उद्योग और खनन की वजह से जो परदूसण निकलते है वो आस पास के लोहो को बीमार क्र देते है और उनके पास तो कोई दवाई हैऔर ही कोई डॉक्टर जिसकी वजह से वे खुद से जड़ी बूटी धुनते है ठीक हो पाते है तो ठीक होते है वर्ण वे वैसे ही मार जाते है|

Read also: testpreparation
 
हाथियों के झुंड
 
कहा जाता है ये जंगल पहले इतना घाना था की कुछ हिस्सों में तो जंगल के सूर्य की किरणे तक नहीं पहुंच पाती थी और अब वैसा नहीं रहा इस जंगल को इतना काटा गया की ये जंगल अब बहुत ही कमजोर और छोटा हो गया है| क्यूंकि यहाँ रोज भरी संख्या में पेड़ो को काटा जा रहा और इन्हे बोलने वाले कोई नहीं है| यहाँ की वातावरण के साथ साथ जंगल भी प्रदुसित हो चूका है और कहा जाता है की यहाँ के जो परदूसण मंत्री और वन संरचक मंत्री भी इनकी समस्या और तकलीफ को नहीं सुनते है, और नार अंदाज़ कर देते है| यहाँ इस जंगल में दूर दूर तक तो कोई स्कूल है और ही कोई अस्पताल की लोग वह जा सके और अपनी इलाज भी करा सके| लोगो को उतनी दूर से ओडिशा राज्ये के भुनेश्वर जाना पड़ता है अपना इलाज करवाने के लिए|
 

जंगलमेंरहनेवालेजानवरऔर पक्षीयोकेनाम |

 
·
·        तेंदुआ
·        गिलहरी
·        खरगोश
·        कैमान
·        गोरिल्ला
·        कौगर
·        ऊद
·        कोयोट
·        बंदर
·        उल्लू
·        बाज़
·        भालू
·        ऊदबिलाव
·        हिरन
·        बिजोन
·        लोमड़ी
·        ईगल
·        मूस
·        मृग
·        छोटा सुन्दर बारहसिंघ
·        चीता
·        तितली
·        गैंडा
·        साँप
·        हाथी
·        समन्दर
·        सिंह
·        जंगली बिल्ली
·        छिपकली
·        जिराफ़
·        ज़ेबरा
·        जंगली भैंसा
सारंडा विकास योजनाइसका मतलब है की इस जंगल के गावो तक वो साड़ी योजना तथा लाभ जो आम नागरिक हो मिलती है वो इन लोगो तक पहुंचना |
 
सारंडा विकास योजना
 

सरकार द्वारा कराये गए कुछ निर्देश और कार्य जो इस जंगल के विकास के लिए किये है:-

यहाँ पे रहने वाले 7000 घरो में से 6000 घरो को पक्का किया गया|
यहाँ के 56 गावो में स्कूल और अस्पतालों का मोहिया करना|
6000 जोब कार्ड्स को बनाना तथा Manrega के तहत इन लोगो को काम देना|
 इस जंगल में ११ सड़के तथा पुल भी बनाया गया है ताकि लोग बहार सेहरो तक का सफर आसानी से तय क्र सके|
इस जंगल से वन अधिकार अधिनियम, 2006 के तहत 2000 से भी जाएदा मामले दर्ज किये गए है|
पिने वाले पानियो को साफ़ और सही तरिके से यहाँ तक पहुंचना और नालो और पीपो द्वारा इन लोगो को मोहिया करना|
और भी बहुत सारे निर्देश और करए दिए गए है जिन्हे पूरा करना है|
 
निष्कर्ष-  दोस्तों आपको झारखण्ड  के इस सारंडा जंगल- Asia Biggest Forest – Saranda Forest  के बारे में जान कर के कैसा लगा और वह के लोगो के बारे में आपका क्या सोचन है??
हमें कमेंट कर के जरूर बताये|
धन्यवाद…….
1 Comment
Leave a Reply